What is System Software In Hindi and There Types


 What is System Software In Hindi

What is System Software In Hindi

Computer System Software In Hindi - कंप्यूटर सिस्टम सॉफ्टवेयर

सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) कंप्यूटर हार्डवेयर डिवाइस को नियंत्रण और चलने के लिए मद्त करता है। सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग है उसके बिना कंप्यूटर किसी काम का नहीं है। सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर(Computer System Software) के सारे हार्डवेयर पर नियंत्रण और आदेश देने का काम करता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर मेमोरी ,सीपीयू और कंप्यूटर का ध्यान रखता है। सिस्टम सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण है विंडोज,मैक ,लिनक्स आदि।

सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software )तकनीकी विवरणों का संचालन करता है ऑपरेटिंग सिस्टम उपयोगिताओं, डिवाइस ड्राइवर और भाषा अनुवादक सिस्टम सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम के प्रकार हैं सिस्टम सॉफ़्टवेयर एक एकल प्रोग्राम नहीं है। बल्कि यह एक संग्रह या प्रोग्राम की प्रणाली है जो सैकड़ों तकनीकी विवरणों को बहुत कम या बिना किसी उपयोगकर्ता के हस्तक्षेप के संभालती है। सिस्टम सॉफ्टवेयर में प्रोग्राम के प्रकार होते हैं।

Types OF System Software In Hindi Language - सिस्टम सॉफ्टवेयर के विभिन्न प्रकार

* Operating System - ऑपरेटिंग सिस्टम

ऑपरेटिंग सिस्टम यह एक कंप्यूटर का महत्वपूर्ण भाग है। ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर हार्डवेयर डिवाइस को ऑपरेट करने में और सिस्टम यूनिट तक आदेश पहोचने मद्त करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम उदाहरण :विंडोज 7 ऑपरेटिंग सिस्टम ,लिनक्स आदि. समन्वयित कंप्यूटर संसाधन उपयोगकर्ताओं और कंप्यूटर और रन एप्लिकेशन के बीच एक पुनरावृत्ति प्रदान करते हैं।

* Types OF Operating System - टाइप्स ऑफ़ ऑपरेटिंग सिस्टम

  • Simple Batch System - सिंपल बैच सिस्टम
  • Multiprocessor System - मल्टीप्रोसेसर सिस्टम
  • Multiprogramming Batch System - मल्टीप्रोग्राममैटिंग बैच सिस्टम
  • Distributed Operating System - डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम
  • Real-Time Operating System - रीयल-टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम
  • Utilities - उपयोगिताओं: उपयोगिताओं को सेवा कार्यक्रमों के रूप में भी जाना जाता है। कंप्यूटर संसाधनों से संबंधित विशिष्ट कार्य करना।
  • Device Drivers - डिवाइस ड्राइवर: डिवाइस ड्राइवर विशेष प्रोग्राम हैं जो विशेष इनपुट या आउटपुट डिवाइस को कंप्यूटर के बाकी हिस्सों के साथ संवाद करने की अनुमति देते हैं।
  • Language Translator - भाषा अनुवादक: प्रोग्रामर द्वारा लिखे गए प्रोग्रामिंग निर्देशों को एक ऐसी भाषा में परिवर्तित करते हैं जिसे कंप्यूटर समझते हैं और प्रक्रिया करते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम प्रोग्राम का एक संग्रह है जो कंप्यूटर का उपयोग करने से संबंधित कई तकनीकी विवरणों को संभालता है। इसके बिना आपका कंप्यूटर बेकार होगा।
  • Managing Resources - प्रबंध संसाधन: ये प्रोग्राम मेमोरी, प्रोसेसिंग, स्टोरेज, और प्रिंटर और मॉनिटर जैसे उपकरणों सहित सभी कंप्यूटर संसाधनों का समन्वय करते हैं।
  • Providing User Interface - उपयोगकर्ता इंटरफेस प्रदान कर रहा है: उपयोगकर्ता एप्लिकेशन प्रोग्राम के साथ सहभागिता करते हैं और एक यूजर इंटरफेस के माध्यम से हार्डवेयर का संकलन करते हैं।
  • Running Applications - चल रहे अनुप्रयोग: ये प्रोग्राम शब्द और अन्य जैसे एप्लिकेशन को लोड और रन करते हैं।

यह भी पढ़े ::

नॉन इम्पैक्ट प्रिंटर और उसके प्रकार

कंप्यूटर की पीढ़िया

कंप्यूटर आउटपुट डिवाइस

* Feature - विशेषताएं

  • Booting - बूटिंग: एक कंप्यूटर को शुरू करने को बूटिंग कहा जाता है।
  • Icon - आइकन: किसी प्रोग्राम या फंक्शन के लिए रेखांकन।
  • Pointer - सूचक: एक माउस द्वारा नियंत्रित किया जाता है और इसके वर्तमान कार्य के आधार पर आकार बदलता है।
  • Windows - विंडोज सूचना प्रदर्शित करने और कार्यक्रम चलाने के लिए आयताकार क्षेत्र।
  • Menu - मेनू: विकल्पों या आदेशों की एक सूची प्रदान करें।
  • Dialog Boxes - संवाद बॉक्स: जानकारी या अनुरोध इनपुट प्रदान करता है।
  • Help : मदद: ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्यों और प्रक्रियाओं के लिए ऑनलाइन सहायता प्रदान करना।
  • Categories - श्रेणियाँ: Embedded Operating Systems - एम्बेडेड ऑपरेटिंग सिस्टम: हाथ में कंप्यूटर और छोटे उपकरणों जैसे पीडीए के लिए उपयोग किया जाता है।
  • Network Operating System - नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम: नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग उन कंप्यूटरों को नियंत्रित और समन्वयित करने के लिए किया जाता है जो एक साथ नेटवर्क या लिंक किए गए हैं।
  • Stand Alone Operation System - स्टैंड अलोन ऑपरेशन सिस्टम : स्टैंडऑनऑपरेटिंग सिस्टम को डेस्क टॉप ऑपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता है, सिंगल डेस्क टॉप कंप्यूट को नियंत्रित करता है।
  • Utilities - उपयोगिताओं बैकअप, डिस्क क्लीनअप और डिस्क डीफ़्रेग्मेंटर विंडोज यूटिलिटीज हैं। McAfee Offiece कार्यालय, नॉर्टन सिस्टम काम करता है, और संचार प्रणाली सूट उपयोगिता सूट हैं। समस्या निवारण या नैदानिक कार्यक्रम जो समस्याओं को पहले आदर्श रूप से पहचानते हैं और ठीक करते हैं। वे गंभीर हो जाते हैं।
  • Anti Virus - एंटी वायरस: जो आपके कंप्यूटर सिस्टम को वायरस से बचाता है।
  • Uninstall - स्थापना रद्द : यह आपको सुरक्षित और पूरी तरह से अनावश्यक प्रोग्राम और संबंधित फ़ाइलों को आपके कंप्यूटर से हटाने की अनुमति देता है।
  • Back Up - बैक अप: उन प्रोग्रामों का बैकअप लें जो आपको सुरक्षित और अनिवार्य रूप से अनावश्यक प्रोग्रामों को हटाने की अनुमति देते हैं जो आपके कंप्यूटर सिस्टम पर आक्रमण कर सकते हैं।
  • File Compression Programs - फ़ाइल संपीड़न कार्यक्रम: फ़ाइलों के आकार को कम करने के लिए उन्हें कम संग्रहण स्थान की आवश्यकता होती है और इसे इंटरनेट पर सबसे कुशलता से भेजा जा सकता है।
  • Disk Defragmenter - डिस्क पुनः प्रारंभिक स्थिति में : डिस्क डीफ़्रेग्मेंटर एक यूटिलिटी प्रोग्राम है जो अनावश्यक टुकड़ों को हटाता है और फ़ाइलों और अप्रयुक्त डिस्क स्थान को पुनर्व्यवस्थित करता है।
  • Device Drivers - डिवाइस ड्राइवर : डिवाइस ड्राइव विशेष प्रोग्राम हैं जो कंप्यूटर, बाकी कीबोर्ड सिस्टम के साथ संचार करने के लिए माउस, कीबोर्ड और प्रिंटर और प्रिंटर जैसे उपकरणों की अनुमति देते हैं।

* Application Software - एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर

कंप्यूटर को हम हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की मद्त से चलाते कंप्यूटर में हमे कोई भी काम करने हो तो हम कंप्यूटर को माउस ,या कीबोर्ड के मद्त से आदेश देते है। मगर हम कुछ जटिल काम करने के लिए कुछ एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का यूज़ करते है। समजो की हमे कुछ डॉक्यूमेंट लिखना है तो हम वर्ड एप्लीकेशन (Word Software) का यूज़ करते है। कोई प्रेज़ेंटेशन क्रिएट करना हो तो पावर पॉइंट एप्लीकेशन का यूज़ करते। या हमे कोई इमेज मॉडिफाइड या एल्बम बनाना हो तो हम एक फोटो शॉप एप्लीकेशन का उयपोग करते है। इन्ही सॉफ्टवेयर को एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कहते है।

* Custom Software - कस्टम सॉफ्टवेयर

उच्च ज्ञान प्राप्त प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में एक्सपर्ट प्रोग्रामर यूजर की पेशकश पर वे सॉफ्टवेयर को डेवलप करते है। जैसे की किसी दुकान का हिसाब किताब रखने के लिए एक मैथमेटिकल सॉफ्टवेयर ,फोटो अपलोडर आदि इन सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए वे हाई लेवल लैंग्वेज के उयपोग करते है। उद्धरण में PHP ,C ++ ,Visual Basic ,Dot Net आदि।